युवा ठान ले तो सब कुछ संभव है- नागपुर में बोले देवनानी

Edited By Afjal Khan, Updated: 10 Feb, 2024 06:47 PM

if the youth is determined then everything is possible  devnani said in nagpur

राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष वासुदेव देवनानी शनिवार को नागपुर में राष्ट्रीय पर्यावरण युवा संसद 2024 के उद्घाटन समारोह में शामिल हुए । जहां उन्होंने उद्घाटन समारोह को संबोधित किया । इस दौरान राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष वासुदेव देवनानी ने कहा कि प्रकृति...

जयपुर, 10 फरवरी। राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष वासुदेव देवनानी शनिवार को नागपुर में राष्ट्रीय पर्यावरण युवा संसद 2024 के उद्घाटन समारोह में शामिल हुए । जहां उन्होंने उद्घाटन समारोह को संबोधित किया । इस दौरान राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष वासुदेव देवनानी ने कहा कि प्रकृति जीवन दायिनी है, इसकी रक्षा करना हम सभी का कर्तव्य है । हम सभी को मिलकर पर्यावरण का संरक्षण करना है। देश का  भविष्य आज का युवा है। उसके कंधों पर जिम्मेदारी है। यदि युवा किसी कार्य को पूरा करने की ठान ले तो सब कुछ संभव हो सकता है । वहीं देवनानी ने युवाओं से आह्वान किया कि वे विकसित भारत की कल्पना को साकार करें और पर्यावरण का संरक्षण करने में अपना योगदान दें । 

उन्होंने कहा कि राजस्थान में अमृता देवी ने पेड़ों की रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति दी थी। के.एम. मुंशी ने 1950 में पेड़ लगाकर वन महोत्सव शुरू किया । आज हर व्यक्ति पेड़ लगाए और उसका संरक्षण करें तो पर्यावरण संतुलित रहेगा और मानव जीवन सुरक्षित रहेगा। साथ ही देवनानी ने कहा कि युवा नेतृत्व को सामाजिक भागीदारी निभाने के लिए आगे आना है। राष्ट्र के समावेशी विकास में योगदान देना है। युवाओं को अपना लक्ष्य तय करना है। योजना बनानी है। राष्ट्र के विकास को दिशा भी देनी है। उन्होंने कहा कि आज के दौर में युवाओं की जिम्मेदारी बढ़ रही है। युवा हर क्षेत्र में अपने आप को साबित करें । युवा उठे और आगे बढ़ता रहे तो समाज का निरंतर विकास होता रहेगा।

देवनानी ने कहा कि युवा राष्ट्र के भविष्य की आशा की किरण है। युवाओं को पर्यावरण योद्धा बनना है। युवा को संकल्प लेना है और राष्ट्र को विश्व के पटल पर अग्रणी बनाना है । आज भारत ने विश्व में नई पहचान बनाई है। वर्तमान दौर में भारत के बिना विश्व में कोई हलचल नहीं होती है। वहीं उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय पर्यावरण युवा ससद में देश के विभिन्न भागों से युवा आए हैं। उन्होंने कहा कि यहां लघु भारत का दर्शन हो रहा है। उन्होंने कहा कि जिसके जीवन में कोई उद्देश्य हो वही युवा है और तब ही राष्ट्र को नई दिशा मिल सकती है। युवाओं को जिंदगी भर राष्ट्र के लिए जीना है। राष्ट्र के लिए कुछ करने का उद्देश्य होना चाहिए।  हमें जीवन की अंतिम सांस तक राष्ट्र के लिए अपने कर्तव्य निभाने होंगे। युवा संसद में  देश के 87 विश्वविद्यालय से चयनित होकर आए 213 विद्यार्थियों ने भाग लिया।
 

Related Story

Trending Topics

India

397/4

50.0

New Zealand

327/10

48.5

India win by 70 runs

RR 7.94
img title
img title

Be on the top of everything happening around the world.

Try Premium Service.

Subscribe Now!